#आओ_प्रकृति_की_ओर_लौटें रासायनिक उर्वरको व रासायनो से जमीन के अन्दर रहने वाले सूक्ष्म जीव समाप्त, कीटनाशकों से खेतों पर मंडराने वाले लाभदायक मित्र कीट समाप्त, खरपतवार नाशकों से वानस्पतिक जैवविविधता समाप्त । सभी जीवों को मारकर जो अन्न पैदा किया जा रहा है, उसको खाकर मनुष्य आखिर कब तक स्वस्थ (जीवित) रहेगा ? देर-सबेर प्रकृति की ओर लौटना ही होगा । कहीं देर न हो जाये । आओ प्राकृतिक खेती करें और अन्य को प्रेरित करें.

News

  • ब्यूटी पार्लर प्रबंधन प्रशिक्षण

     

     

    कृषि विज्ञान केंद्र गोविन्दनगर के द्वारा व्यावसायिक प्रशिक्षण के अंतर्गत युवतियों  के स्वरोजगार स्थापना हेतु 45  दिवसीय ब्यूटी पार्लर प्रबंधन प्रशिक्षण का संचालित है। प्रशिक्षण के नोडल गृह वैज्ञानिक डॉ आकांक्षा पाण्डेय ने कहाँ की  गोविन्दनगर के आस पास के गाँव  जैसे मछेरा, माल्सेहनवाडा, कामती, राजथरी, पलिया पिपरिया, नगवाडा से 14 युवतियों, पिपरिया के ब्यूटी पार्लर ट्रेनर मोनिका से  प्रशिक्षण प्राप्त कर रही है डॉ पाण्डेय ने आगे जानकारी देते हुए कहाँ  कि सभी प्रशिक्षणार्थी को थ्रेडिंग, फेशियल, मेनिक्योर और पेडीक्योर, ब्लीच, वैक्स, मसाज, दुल्हन मेकअप आदि का प्रशिक्षण दिया जा जायेगा अभी प्रशिक्षण शुरू हुए 1 हफ्ते ही हुए है। प्रशिक्षण उपरांत प्रशिक्षणार्थी को प्रमाणपत्र दिया जाएगा जिससे वे अपना स्वरोजगार स्थापित कर आत्मनिर्भर बन सके एवं प्रशिक्षण उपरांत प्रत्येक प्रशिक्षणार्थी को अपना स्वरोजगार स्थापित करने हेतु बैंक से विभिन्न योजनाओं के अंतर्गत ऋण सुविधा उपलब्ध है  जिसका वह लाभ भी ले सकते है और आत्मनिर्भरता के साथ-साथ महिला सशक्तिकरण की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम बढ़ा सकते है। 

     

    साथ ही डॉ पाण्डेय ने कहाँ की भारत सरकार के कौशल विकास अंतर्गत मशरूम उत्पादन एवं जैविक खेती पर कौशल विकास प्रशिक्षण कृषि विज्ञान केंद्र द्वारा युवाओं को अगले हफ्ते से दिया जायेगा जिसका पंजीयन पूर्ण हो चूका है। 

     
     




     

                                                                                                                                         धन्यवाद

Circular

  • कौशल विकास योजना के अंतर्गत 'जैविक कृषि एवं मशरूम
    कृषि विज्ञान केंद्र गोविंदनगर, नर्मदापुरम में भारत सरकार के कौशल विकास योजना के अंतर्गत 'जैविक कृषि एवं मशरूम उत्पादन ' विषय पर कौशल विकास प्रशिक्षण आयोजित किया जा रहा है | प्रशिक्षण में इच्छुक अभर्थी शीघ्र पंजीयन कराये | अधिक जानकारी के लिए 7000034381, 9406623293 पे संपर्क कर सकते है पंजीयन लिंक https://forms.gle/Fms26SFCynZPzdnWA धन्यवाद
  • ट्राई को कार्ड का उपयोग कर लाखो रूपये बचाए

  • मूंग की खेती में तरल जैव उर्वरक का उपयोग करे

  • गोविन्द तरल जैव उर्वरक ( ट्राइकोडर्मा विरडी)
    गोविन्द तरल जैव उर्वरक ( ट्राइकोडर्मा विरडी) " तरल जैव उर्वरक अपनाएं, मृदा की उर्वरता बढाए" लाभ पूर्ण रूप से जैविक पदार्थ । फफूंद जनित रोगों से बचाव में सहायक । फसल को रोग एवं कीट रोधी बनाता है । जड़ों को अधिक विकसित करता है । मृदा में लाभदायक सूक्ष्म जीवों की संख्या बढाता हैं। फसल में हरापन बढाकर बढ़वार में वृद्धि करता है। फसल की सभी अवस्थाओं में उपयोगी। बीज उपचार 2.5 मि.ली. तरल जैव उर्वरक को 1 कि.ग्रा. बीज की दर से बीज उपचार करें। मृदा उपचार: 1 लीटर तरल जैव उर्वरक को 50 कि.ग्रा. गोबर की खाद में मिलाकर प्रति एकड़ प्रयोग करें । प्रयोग से पूर्व पदार्थ को अच्छे से हिलाएं । ठन्डे एवं छायादार स्थान पर भण्डारित करें। जैव उर्वरक का प्रयोग किसी भी रसायन के साथ मिलाकर नही करना चाहियें ।
  • गोविन्द देसी घी
    परम्परागत बिधि से निर्मित भारतीय नस्ल (साहिवाल) गाय के A2 दूध से बना गोविन्द देसी घी स्वाद और शुद्धता ऐसी जो दिल जीत ले | प्राप्त करने के लिए संपर्क करे - कृषि विज्ञान केंद्र गोविंदनगर पलिया पिपरिया , बनखेडी, नर्मदापुरम 7987979803
  • उपलब्ध सामग्री

  • किसान सारथी मोबाइल आधारित कृषि सलाह सेवा
    सभी कृषक बंधू ध्यान देवे https://forms.gle/ACyKyR2Fe3zG37ma6 किसान सारथी मोबाइल आधारित कृषि सलाह सेवा में आपका स्वागत है, यह सेवा आपके कृषि विज्ञान केंद्र गोविंदनगर, नर्मदापुरम के द्वारा निःशुल्क दी जा रही है, ऊपर दिए लिंक पर क्लिक कर अपना पंजीयन कराये एवं कृषि विज्ञान केंद्र गोविंदनगर, नर्मदापुरम काल सेंटर पर काल कर कृषि से सम्बंधित जानकारी एवं समस्याओं का समाधान प्राप्त करे | यदि आप इस सेवा के लिए इच्छुक नहीं है तो इस नंबर 01204741923 पर कॉल करे. पंजीयन के बाद Toll free number – 14426/1800-123-2175 पर काल कर कृषि से सम्बंधित जानकारी एवं समस्याओं का समाधान प्राप्त कर सकते है |
  • KVK में उत्पादन उत्पाद क्रय हेतु उपलब्ध है

  • पौधो में विभिन्न पोषक तत्वों की कमी के लक्षण

  • मलेरिया से सावधान होने का समय है ध्यान दे |

  • कृषि विज्ञान केंद्र से जुड़ने के लिए क्लीक करे
    .

Twitter

8856
293